RBI ने HDFC Bank के डिजिटल सेवाओं पर लगाई रोक, जानिए क्या है पूरी वजह

Dec 03 2020

RBI ने HDFC Bank के डिजिटल सेवाओं पर लगाई रोक, जानिए क्या है पूरी वजह

नई दिल्ली: अगर आप एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) के ग्राहक हैं तो यह खबर सिर्फ और सिर्फ आपके लिए ही है. दरअसल, भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India-RBI) ने निजी क्षेत्र के एचडीएफसी बैंक को झटका देते हुए डिजिटल सेवाओं के ऊपर रोक लगा दिया है. रिजर्व बैंक ने 2 दिसंबर को जारी किए गए आदेश के तहत इंटरनेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग और पेमेंट यूटिलिटी सर्विस पर रोक दिया है. रिजर्व बैंक ने नए क्रेडिट कार्ड को जारी करने पर भी रोक लगा दी है. RBI ने 2 दिसंबर को एचडीएफसी बैंक को नोटिस जारी किया था.

पिछले 2 साल में उपभोक्ता डिजिटल सेवाओं को लेकर कई बार हुए परेशान
केंद्रीय बैंक ने एचडीएफसी के डेटा सेंटर में पिछले महीने कामकाज प्रभावित होने के चलते यह आदेश दिया. एचडीएफसी ने शेयर बाजार को बताया कि आरबीआई ने एचडीएफसी बैंक लिमिटेड को दो दिसंबर 2020 को एक आदेश जारी किया है, जो पिछले दो वर्षों में बैंक के इंटरनेट बैंकिंग/ मोबाइल बैंकिंग/ पेमेंट बैंकिंग में हुई परेशानियों के संबंध में है, जिसमें हाल में 21 नवंबर 2020 को प्राइमरी डेटा सेंटर में बिजली बंद हो जाने के चलते बैंक की इंटरनेट बैंकिंग और भुगतान प्रणाली का बंद होना शामिल हैं. बता दें कि पिछले 2 साल में एचडीएफसी बैंक के उपभोक्ताओं को डिजिटल सेवाओं को लेकर कई बार परेशानी का सामना करना पड़ा है. आरबीआई ने इन सभी परेशानियों को देखते हुए यह कदम उठाया है. RBI ने एचडीएफसी बैंक के प्राइमरी डेटा सेंटर में बिजली आपूर्ति बाधित होने की वजह से 21 नवंबर को हुई दिक्कतों पर भी सवाल उठाया है.

एचडीएफसी बैंक ने कहा कि आरबीआई ने आदेश में बैंक को सलाह दी है कि वह अपने कार्यक्रम डिजिटल 2.0 और अन्य प्रस्तावित आईटी अनुप्रयोगों के तहत आगामी डिजिटल व्यापार विकास गतिविधियों और नए क्रेडिट कार्ड ग्राहकों की सोर्सिंग को रोक दे. एचडीएफसी बैंक ने कहा कि इसके साथ ही बैंक के निदेशक मंडल से कहा गया है कि वे कमियों की जांच करें और जवाबदेही तय करें. एचडीएफसी बैंक ने कहा कि पिछले दो वर्षों में उसने अपने आईटी सिस्टम को मजबूत करने के लिए कई उपाय किए हैं और शेष काम को तेजी से पूरा करेगी. बैंक ने कहा है कि वह डिजिटल बैंकिंग चैनलों में हालिया परेशानियों को दूर करने के लिए ठोस कदम उठा रहा है और उम्मीद जताई की उसके मौजूदा क्रेडिट कार्ड, डिजिटल बैंकिंग चैनलों और मौजूदा परिचालन पर ताजा नियामकीय फैसले का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा.

बैंक का मानना ​​है कि इन उपायों से उसके समग्र व्यवसाय पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा. RBI ने कहा है कि एचडीएफसी बैंक के बोर्ड को खामियां दूर करने के साथ ही जवाबदेही तय करनी चाहिए. गौरतलब है कि हाल ही में एचडीएफसी बैंक के डिजिटल बैंकिंग सेवाओं में आई दिक्कतों के चलते UPI पेमेंट, एटीएम पेमेंट और कार्ड चैनल पेमेंट कई घंटों तक बंद रहे थे. हालांकि बैंक ने उस समय जवाब तलब में कहा था कि पिछले दो साल में बैंक ने अपने सिस्टम में काफी सुधार किया है लेकिन आरबीआई ने कहा था कि बैंक की इन दावों के बावजूद दिक्कतें आ रही हैं या काफी गंभीर मामला है. (इनपुट भाषा)